न्यायालयों

सिवान में न्यायालय का इतिहास

ब्रिटिश भारत के दौरान न्याय व्यवस्था का विवरण 1875 से देखा जा सकता है जब 1875 में सीवान और गोपालगंज को सरन जिले के उप-मंडल बनाए गए थे। सिवान में मुनसिफ इस्ट की अदालत 1870 में स्थापित हुई थी और मुनसिफ की दूसरी अदालत 1945 में स्थापित की गई थी। उप-न्यायमूर्ति की अदालत 1971 में स्थापित की गई थी, जिसने सिविल न्याय प्रशासित किया था। आपराधिक न्याय का प्रावधान उप-विभागीय अधिकारी और पुरानी सीआरपीसी के अधीन मजिस्ट्रेट को सौंप दिया गया था। सिवान 10-05-19 76 तक शरण का उप-विभाजन बना हुआ था जब सिवान को बिहार के एक जिले के रूप में गोपालगंज के रूप में सिवान के उप-विभाजन के रूप में बनाया गया था। हालांकि गोपालगंज का सिवान से विभाजन हुआ और एक अलग जिला बना दिया। 10.05.1976 को जिला सिवान की नई न्यायाधीशता के रूप में स्थापित किया गया था और गोपालगंज जिले के निर्माण के बाद भी 10-01-1984 गोपालगंज की न्यायपीठ बनाने तक गोपालगंज सिवान की न्यायाधीशता में बने रहे।

सिवान न्यायालय परिसर , समाहरणालय के नजदीक
सिवान न्यायाधीश की कोर्ट बिल्डिंग चार खण्डो में है, जिन्हें डी० जे० कोर्ट भवन , नया भवन (मेन बिल्डिंग), सी० जे० एम० कोर्ट भवन और फैमिलि कोर्ट के नाम से जाना जाता है।