जिले के बारे में

सीवान जिले का परिचय

सिवान, राज्य के पश्चिमी भाग में स्थित है, मूल रूप से सरण जिले का एक अनुमण्डल था, जो प्राचीन दिनों में कोसाल साम्राज्य का एक हिस्सा था। जिले की वर्तमान सिमा 1972 में ही अस्तित्व में आई, जो भौगोलिक रूप से 25.58 से 26.23 उत्तर और 84.10 से 84.47 पूर्व में स्थित है। सिवान जिले का कुल क्षेत्रफल लगभग 2219.00 वर्ग किलो मीटर है एवं 2011 की जनगणना के अनुसार जनसंख्या 33,30,464 है। सिवान जिला पूर्व में सारन जिले से, उत्तर में गोपालगंज जिले से और पश्चिम और दक्षिण में यू.पी. के दो जिलों क्रमशः देवरिया और बाली से घिरा है।

सिवान को यह नाम “शिव मॅन” नाम का एक बंद राजा से मिला है, जिसका वंसज ने बाबर के आगमन तक इस क्षेत्र पर शासन किया था। महाराजगंज, जो सिवान जिले का एक अनुमण्डल है, शायद उसका नाम वहॉ के महाराजा की गद्दी से मिला हो सकता है। हाल ही में भेरबानिया गांव में एक वृक्ष के नीचे से खुदाई में भगवान विष्णु की शानदार प्रतिमा मिली जिससे पता चलता है कि इस क्षेत्र में भगवान विष्णु के बहुत से अनुयायी थे। किंवदंती है कि, महाभारत के द्रोणाचार्य दरौली प्रखण्ड में स्थित “दोन गॉव” के थे। कुछ लोगों का मानना है कि सिवान ही वह स्थान है जहां भगवान बुद्ध की मृत्यु हुई थी।

सिवान को “अली बक्स” जो इस क्षेत्र के जागीरदारों के पूर्वजों में से एक , के नाम के कारण “अलीगंज सावन’ के नाम से भी जाना जाता है। सिवान 8 वीं शताब्दी के तक बनारस साम्राज्य का हिस्सा था। मुसलमान यहां 13 वीं सदी में आए थे। सिकंदर लोदी ने 15 वीं सदी में इस क्षेत्र को अपने राज्य में मिलाया। बाबर ने अपनी वापसी यात्रा में सिसवान के पास घाघरा नदी पार किया था। 17 वीं सदी के अंत में, पहले डच और उनके पिछे अंग्रेज यहाँ आये। 1765 में बक्सर की लड़ाई के बाद यह बंगाल का एक हिस्सा बन गया।

सिवान ने 1857 में स्वतंत्रता आंदोलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह मशहूर और मजबूत “भोज-पुरी” के लिए प्रसिद्ध है, जो हमेशा अपने लडाकू भावना और शारीरिक धीरज के लिए विख्यात रहा है, अधिकांश सेना और पुलिस कर्मचारी भोजपुरी थे। उन्होने बड़ी संख्या में विद्रोह किया और बाबू कुंवर सिंह को अपनी सेवाएं प्रदान की। बिहार में पर्दा प्रथा विरोधी आंदोलन आंदोलन श्री ब्रज किशोर प्रसाद ने भी शुरू किया था जो सिवान के थे। 1920 के असहयोग आंदोलन के क्रम मे डॉ राजेंद्र प्रसाद के नेतृत्व में कार्तिक पूर्णिमा मेले की पूर्व संध्या पर सिवान जिले के दरौली में एक बड़ी बैठक आयोजित की गई थी। जिन्होंने गांधी जी के कहने पर पटना उच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में अपनी आकर्षक अभ्यास को छोड़ दिया था। इसी आंदोलन के क्रम में मौलाना मज़हरुल हक, जो सिवान में अपने मामा डॉ सैय्यद महमूद के साथ रहने आए थे, ने पटना-दानापुर रोड पर एक आश्रम का निर्माण किया था, जो बाद में सदाकत आश्रम बना। असहयोग आंदोलन के अगले चरण रुप मे 1930 की सविनय अवज्ञा आंदोलन को सिवान में पूरी तरह लागू किया गया था।

सत्याग्रह आंदोलन के समय मे जवाहरलाल नेहरू ने बिहार के विभिन्न हिस्सों का धुआँधार दौरा किया। सिवान के महाराजगंज में एक प्रसिद्ध बैठकों को उन्होंने संबोधित किया। डॉ राजेंद्र प्रसाद, मौलाना मज़हरुल हक, श्री महेंद्र प्रसाद (डॉ राजेंद्र प्रसाद के बड़े भाई), डॉ सैयद मोहम्मद, श्री ब्रज किशोर प्रसाद और श्री फुलेना प्रसाद वर्तमान सिवान जिले के कुछ ऐसे लोग है जिन्होने स्वतंत्रता प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान नरेंद्रपुर के उमा कंट सिंह (रमन जी) ने शहादत को प्राप्त किया। सिवान के जवाला प्रसाद और नर्मदेश्र्वर प्रसाद ने जयप्रकाश नारायण को हजारीबाग केंद्रीय जेल से भागने के बाद मदद की। इस देश के सबसे प्रसिद्ध साहित्यकार में से एक पंडित राहुल सांकरित्ययन ने यहाँ 1937 से 1938 के बीच किसान आंदोलन की शुरुआत की। चंपारण यात्रा के दौरान महात्मा गांधी और मदन मोहन मालवीय ने सिवान का दौरा किया, एवं डॉ राजेंद्र प्रसाद के घर में जिरादेई में एक रात बिताई। वह चौकी जिस पर गाँधी जी सोये थे अभी भी वहां रखा गया है।

जिला के क्षेत्राधिकार में बदलाव

जिले के क्षेत्राधिकार में बड़े बदलाव सिवान जिले के निर्माण और इसके परिणामस्वरूप हुए परिवर्तनों से हुआ था, और 10 जून 1970 के त्रिवेदी पंचाट के कार्यान्वयन के कारण क्षेत्राधिकार में पर्याप्त बदलाव आया। सिवान को 1972 में एक जिले के रूप में घोषित किया गया, जिसमें गोपालगंज अनुमण्डल के 10 प्रखण्ड और सिवान अनुमण्डल के 13 प्रखण्ड शामिल करने का प्रस्ताव था। दो प्रखण्ड भगवानपुर और सिवान के बसंतपुर को प्रस्तावित मरहौरा अनुमण्डल के अधिकार क्षेत्र में जोड़ा जाना घोषित किया गया था। लेकिन एक वर्ष बाद 1973 में गोपालगंज को उसके 10 प्रखण्डो के साथ एक अलग जिला बनाया गया, और इस तरह सीवान ने भगवानपुर और बसंतपुर ब्लॉक सहित अपने मूल 15 ब्लॉक का गठन किया।

10 जून 1970 के त्रिवेदी पंचाट के कार्यान्वयन के क्रम में सिवान के चौदह गांव 13092 एकड़ के क्षेत्र को यू.पी. और यू.पी. के बारह गांव 6679 एकड़ के क्षेत्र सिवान को स्थानांतरित कर दिया गया था। इस हस्तांतरण का आधार 1885 में गघरा नदी की स्थिति थी। 1885 के बाद नदी के धार मे समय-समय पर परिवर्तन हुआ जिससे यू.पी. के क्षेत्रों का सिवान और सिवान के क्षेत्रों का यू.पी. मे विलय होता रहा था। इसलिए 1885 की स्थिति को आधार रख कर उन स्थानान्तरण को तदनुसार बनाया गया था।10 जून 1970 के त्रिवेदी पंचाट के कार्यान्वयन के पुर्व यु० पी० से सिवान जिले की सिमा नदी की धारा के साथ बदलती रहती थी। इस पंचाट के कार्यान्वयन के बाद इस सीमा को विशिष्ट बिंदुओं पर खंभे लगाकर सिमा का निर्धारण किया गया। जिसका इसका रखरखाव इस पंचाट के प्रावधानों के अनुसार उत्तर प्रदेश सरकार और सिवान का प्रशासन द्वारा किया जाता है। इस प्रकार त्रिवेदी पंचाट के कार्यान्वयन के बाद, घाघरा नदी के दोनों किनारों पर स्थित सिवान और यू.पी. की लचीली सीमा को स्थिरता दी गई थी।

वर्तमान में चार और ब्लॉक लकड़ी नबिगंज, नौतन, जिरादेई और हसनपुरा ब्लॉक बनाये गये हैं, ये सभी कार्यरत है। इस प्रकार सिवन जिले में कुल 19 ब्लॉक – सिवान, मैरवा, दरौली, गुठनी, हुसैंगंज, हसनपुरा, जिरादेई, अंदर, नौतन, रघुनाथपुर, सिसवन, बरहरिया, पचरूखी सिवान अनुमण्डल मे और महाराजगंज, दरौधा , गोरेयाकोठी, बसंतपुर, भगवानपुर और लखड़ी नबीगंज महाराजगंज अनुमण्डल मे है।